RSS

Category Archives: My Poems

Poems written by me

Poem on Guru Purnima

FullSizeRender 4Guru Poem

Advertisements
 
1 Comment

Posted by on July 19, 2016 in My Poems

 

Tags: , , , , , , ,

मेरा देश बदल रहा है – मेरा सैंया बदल रहा है :)

 

ભાવતા ભોજનનો પણ જયારે અતિરેક થઇ જાય ત્યારે પેટમાં આફરો ચઢી જાય. આજકાલ ‘મેરા દેશ બદલ રહા હૈ’ નો આફરો તો  કાનમાં ચઢી ગયો છે, અવળો ગેસ ચઢેને એમ 🙂

છેલ્લા અઠવાડિયાથી રેડીઓ સ્ટેશનોએ ‘મેરા દેશ બદલ રહા હૈ’ વગાડીને મગજ કાણું કર્યું’તુ અને એમાં એક કપલના કાઉન્સેલીંગ દરમ્યાન પતિનો મોબાઈલ રણક્યો. હવે એની રીંગ ટોન પણ ‘મેરા દેશ બદલ રહા હૈ’!!

પછી તો, એમની જ સમસ્યા ઉપરથી રાત્રે પેરોડી ગીત લખાઈ ગયું।
લ્યો તમે’ય મમળાવો ત્યારે, કદાચ આફરો ઉતરી જાય…

देखो घर से खिल कर रोज़ निकल रहा है

ख़यालों में किसी के अब ऊंचा उड़ रहा है

मेरा सैंया बदल रहा है, कहीं और लटक रहा है

चहेरे पर मुँहासा रोशन सा हो रहा है

वोर्डरोब से रोज कुछ नया निकल रहा है

शरीर के हर कोने में डीओ उड़ रहा है

घंटा शीशे के सामने बिताए जा रहा है

मेरा सैंया बदल रहा है, कहीं और लटक रहा है

छुप छुप कर चेटिंग उभर रहा है

दूसरा सीम भी पोकेट में पल रहा है

दबी आवाज़ से मोबाइल हो रहा है

कोल हिस्ट्री डीलीट किए जा रहा है

मेरा सैंया बदल रहा है, कहीं और लटक रहा है

सेल्फ़ी, फ़ोटो सब अपलोड हो रहा है

स्टेटस, प्रोफ़ाइल पीक बदला जा रहा है

नेटवर्क नहीं मिलने पर गभरा सा रहा है

और हर जगह वाइफ़ाइ ढूँढे जा रहा है

मेरा सैंया बदल रहा है, कहीं और लटक रहा है

लोंग ड्राइव अब मन को भा रहा है

कोफ़ी शोप भी रोज बुला रहा है

बिना वजह घर से बाहर जा रहा है

बहाने जूठे कुछ यूँही बनाए जा रहा है

मेरा सैंया बदल रहा है, कहीं और लटक रहा है

Parody Song

 

 

 

 

 
3 Comments

Posted by on June 3, 2016 in My Poems

 

Tags: , , , ,